जिला वृक्षारोपण गंगा और पर्यावरण समिति की बैठक संपन्न

जिला वृक्षारोपण गंगा और पर्यावरण समिति की बैठक संपन्न

पर्यावरण को बचाने के लिए जिलाधिकारी ने दिए आवश्यक दिशा निर्देश

दीपेंद्र सिंह (सम्पादक)

जिलाधिकारी हर्षिता माथुर की अध्यक्षता में जिला वृक्षारोपण समिति जिला पर्यावरण समिति और जिला गंगा समिति की बैठक बचत भवन में हुई।

बैठक में डीएफओ आशुतोष अग्रवाल ने बताया कि वर्ष 2024-2025 के लिए जनपद को लगभग पचास लाख 65 हजार पौधरोपण का लक्ष्य दिया गया है। निर्धारित लक्ष्य पूरा करने के लिए 25 विभागों को चिन्हित किया गया है। जिसमें सर्वाधिक ग्राम विकास विभाग को इक्कीस हजार का लक्ष्य दिया गया है। वन विभाग को 1452000 कृषि विभाग को 419000 उद्यान विभाग को 260000 पंचायती विभाग को 210000 पर्यावरण विभाग को 210000 लक्ष्य दिया गया है। जिलाधिकारी ने कहा की सभी विभाग निर्धारित लक्ष्य की प्राप्ति के लिए समय रहते जमीन अवश्य चिन्हित कर ले। पौधरोपण के उपरांत तीन वर्ष तक उनका अनुरक्षण किया जाए। हरित्मा ऐप पर जियो टैगिंग भी की जाए।

जिला पर्यावरण समिति में जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि वायु गुणवक्ता बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास किया जाए। स्वास्थ्य विभाग को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि मेडिकल वेस्ट का मैनेजमेंट उचित तरीके से किया जाए। साथ ही बाजारों में पॉलिथीन से बनी हुई वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाया जाए इसके लिए दुकानदारों और लोगों को पॉलिथीन की जगह ऑर्गेनिक पदार्थ से बने थैलों का प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।

जिला गंगा समिति की बैठक में गंगा नदी को प्रदूषण मुक्त बनाए जाने के लिए प्रयासों पर चर्चा हुई। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया की गंगा में प्रवाहित होने वाले सभी नालों का उचित प्रबंध कराया जाए। नगर पालिका को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि गंगा घाट पर लगने वाले मेलों में लोगों को जागरूक किया जाए कि उत्सवो के दौरान नदी में प्रदूषित जल और सामग्री को प्रभावित करने से बचे। एनजीटी के दिशा निर्देशों को गंभीरता से पालन कराया जाए।

बैठक में सभी जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp